Uncategorized @hi

इंडो-पैसिफ़क दृष्टिकोण

प्रिय पाठको, सा मरिक बदलावों पर इंडो-पैसिफ़िक डिफ़ेंस फ़ोरम के अंक में आपका स्वागत है।

संयुक्त राज्य अमेरिका और उसके सहयोगी व साझेदार उभरती सुरक्षा चुनौतियों का सामना करने के लिए अपनी संयुक्त समरनीतियों, व्यूह-कौशल और क्षमताओं को लगातार अनुकूलित कर रहे हैं। जैसे-जैसे ख़तरे तेज़ी से ज़्यादा जटिल होते जा रहे हैं, सेनाओं और राष्ट्रों के बीच सहयोगात्मक रिश्ते सुरक्षित व समृद्ध इंडो-पैसिफ़िक हासिल करने के लिए बेहद महत्वपूर्ण साबित हो रहे हैं।

फ़ोरम का यह संस्करण क्षेत्र में बदलाव से संबंधित कुछ प्रमुख समस्याओं, जनसांख्यिकीय, आर्थिक और भू-राजनीतिक परिवर्तनों से लेकर प्रौद्योगिकी तथा युद्ध के रुझानों व रक्षा क्षमताओं में निरंतर सुधार द्वारा — विशेष रूप से जो सहयोग के लिए महत्वपूर्ण हैं, समान विचारधारा वाले देशों के विरोधियों से आगे रहने के महत्व पर प्रकाश डालने का प्रयास करता है।

शुरुआती लेख में, डेनियल के. इनौये एशिया-पैसिफ़िक सेंटर फ़ॉर सेक्युरिटी स्टडीज़ के प्रोफ़ेसर डॉ. अल्फ़्रेड ओहलर्स (Alfred Oehlers) बताते हैं कि कैसे और क्यों अमेरिका तथा उसके सहयोगियों व भागीदारों को अंतरराष्ट्रीय नियम-आधारित व्यवस्था और स्वतंत्र व खुले इंडो-पैसिफ़िक को बनाए रखने के लिए एकीकृत निवारण हासिल करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। इस विषय से निकटता से जुड़ा फ़ोरम स्टाफ़ का लेख इस बात की जाँच करता है कि ऑस्ट्रेलियाई रक्षा बल पूरे सरकारी दृष्टिकोण को नियोजित करके बदलते सामरिक परिदृश्य को कैसे अपना रहा है, जिसमें रक्षा के सभी डोमेन — वायु, भूमि, समुद्र, साइबर और अंतरिक्ष शामिल हैं। हवाई में 2023 लैंड फ़ोर्सेज़ पैसिफ़िक (LANPAC) संगोष्ठी और प्रदर्शनी में अपनी प्रस्तुति के आधार पर, फ़िलीपीनी सशस्त्र बलों के चीफ़ ऑफ़ स्टाफ़ जनरल रोमियो ब्राउनर (Romeo Brawner) ने इंटरऑपरेबिलिटी बढ़ाने और भावी गतिविधियों की तैयारी के लिए साझेदारों के बीच संबंधों को मज़बूत करने के लिए बहुपक्षीय प्रशिक्षण के महत्व पर अपने विचार साझा किए।

इसके अलावा इस संस्करण में, न्यूयॉर्क में होबार्ट और विलियम स्मिथ कॉलेजों में एशियाई अध्ययन के एसोसिएट प्रोफ़ेसर डॉ. जिंगहाओ झोउ (Jinghao Zhou), चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (CCP) के महासचिव शी जिनपिंग (Xi Jinping) की उभरती वैश्विक सुरक्षा पहल और इस तथ्य की छान-बीन करते हैं कि क्यों सहयोगियों व साझेदारों को इंडो-पैसिफ़िक तथा उससे परे CCP के प्रभाव का मुक़ाबला करने के लिए स्थिर और स्पष्ट सुरक्षा नीति के साथ प्रतिक्रिया करनी चाहिए। इस बीच, फ़ोरम स्टाफ के एक लेख में इस बात की जाँच-पड़ताल की गई है कि कैसे एक अन्य सामरिक प्रतिस्पर्धी, रूस द्वारा ईरान व वेनेज़ुएला द्वारा उपयोग किए जाने वाले तरीक़ों का अनुकरण करते हुए, अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों से बचने के लिए समुद्र में तेल पहुँचाने या माल को स्थानांतरित करने के लिए पुराने जहाज़ों के बेड़े को गुप्त रूप से नियोजित करके वैश्विक क़ानूनों व मानदंडों को कमज़ोर किया जा रहा है।

यह संस्करण इन कई बढ़ती चुनौतियों के लिए नवीन समाधानों की शृंखला प्रदान करता है। उदाहरण के लिए, फ़ोरम स्टाफ़ के लेख में बताया गया है कि इंडो-पैसिफ़िक में साइबर सुरक्षा साझेदारी कैसे परिपक्व हो रही है। सहयोगी और साझेदार साइबर हमलों का पता लगाने, सरकारों और उद्योग के साथ जानकारी साझा करने तथा नागरिक आधारभूत संरचनाओं व रक्षा नेटवर्क की सुरक्षा के लिए टीम बना रहे हैं। साइबर-केंद्रित सैन्य अभ्यास इस ख़तरे के प्रति सुरक्षा प्रतिक्रिया का महत्वपूर्ण हिस्सा है। 

हमें उम्मीद है कि ये लेख सुरक्षा के लिए सामरिक बदलावों के महत्व पर क्षेत्रीय वार्ताओं को प्रोत्साहित करेंगे। हम आपकी टिप्पणियों का स्वागत करते हैं। अपने विचार साझा करने के लिए कृपया ipdf@ipdefenseforum.com पर फ़ोरम स्टाफ़ से संपर्क करें।

शुभकामनाएँ,

फ़ोरम स्टाफ़


फ़ोरम ने दैनिक वेब कहानियों का हिंदी में अनुवाद करना निलंबित कर दिया है। कृपया दैनिक सामग्री के लिए अन्य भाषाएँ देखें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button