ग्लोबल कॉमन्सपूर्वोत्तर एशिया / NEAस्वतंत्र और मुक्त इंडो-पैसिफिक / एफ़ओआईपी

लाल सागर से गुज़रने की कोशिश कर रहे जहाज़ों पर हाउती हमलों से चीनी व्यापार को पहुँचा नुक़सान

फ़ोरम स्टाफ़

हालाँकि चीनी व्यापारी हाउती विद्रोहियों का निशाना नहीं थे, लेकिन वे बाब अल-मंडेब जलडमरूमध्य से गुज़रने वाले मालवाहक जहाज़ों पर आतंकवादियों के हमलों से काफ़ी प्रभावित हुए और उन्हें डर है कि इस मार्ग पर, जो कि दुनिया के सबसे व्यस्त शिपिंग मार्गों में से एक है, संकट का स्थायी प्रभाव हो सकता है।

रॉयटर्स की रिपोर्ट के अनुसार, एक चीनी व्यवसायी ने कहा कि यूरोप में एक कंटेनर की शिपिंग की लागत दिसंबर 2023 में लगभग $3,000 डॉलर से बढ़कर जनवरी 2024 में $7,000 डॉलर हो गई, क्योंकि ईरान-गठबंधन से जुड़े हाउतियों ने लाल सागर और अरब सागर के बीच सामरिक मार्ग में जहाज़ो पर हमला किया था। यमन स्थित विद्रोहियों का दावा है कि वे केवल उन देशों के जहाज़ों पर हमला करेंगे जो हमास के खिलाफ़ इज़रायल के युद्ध का समर्थन करते हैं — जिसमें पीपल्स रिपब्लिक ऑफ़ चाइना (PRC) शामिल नहीं है — लेकिन चीनी निर्यातकों और निर्माताओं को संकीर्ण और दिन-ब-दिन ख़तरनाक बन रहे जलडमरूमध्य के आस-पास माल की ढुलाई के लिए बढ़ती शिपिंग क़ीमतों और बीमा दरों का सामना करना पड़ता है।

जनवरी 2024 में लाल सागर में जहाज़ों के खिलाफ़ विद्रोही हमलों का मुक़ाबला करने के लिए अमेरिकी नौसेना के USS ड्वाइट डी. आइज़नहावर पर उड़ान का संचालन करते चालक दल के सदस्य।
वीडियो आभार: पेटी ऑफ़िसर काल्विन केस (Kalvin Kes)/अमेरिकी नौसेना

शिपिंग में बाधा तब आती है जब दुनिया का सबसे बड़ा व्यापारिक देश चीन, कम लाभ मार्जिन और COVID-19 के प्रतिबंधों के जारी प्रभावों से जूझ रहा है। जलडमरूमध्य और दक्षिणी लाल सागर में शत्रुता भी चीनी कंपनियों को समुद्र के उत्तरी छोर पर स्वेज़ नहर के किनारे और आस-पास निवेश तक सुरक्षित पहुँच से वंचित कर देती है। इस बीच, चीन को रियल एस्टेट मंदी, कमज़ोर उपभोक्ता माँग, घटती आबादी और सुस्त वैश्विक विकास का सामना करना पड़ रहा है, जैसा कि रॉयटर्स ने जनवरी 2024 में रिपोर्ट किया था।

हमलों से वैश्विक शिपिंग भी प्रभावित होती है। कई कंटेनर जहाज़, थोक वाहक और टैंकर, जो आम तौर पर — एशिया और यूरोप के बीच के सबसे छोटे समुद्री मार्ग — लाल सागर को पार करते हैं, वे अब दक्षिणी अफ़्रीका के आस-पास लगभग 6,000 किलोमीटर का चक्कर लगा रहे हैं, जिसमें दो सप्ताह लग सकते हैं। एसोसिएटेड प्रेस ने बताया कि यूनाइटेड किंगडम और संयुक्त राज्य अमेरिका, यमन में हाउती हथियारों को निशाना बनाकर हमलों का मुक़ाबला करने के लिए एक बहुराष्ट्रीय पहल का नेतृत्व कर रहे हैं, जिसमें विद्रोहियों के मिसाइल भंडारण स्थलों, ड्रोन और लॉन्चरों को नष्ट करने के लिए टॉमहॉक मिसाइलों और लड़ाकू विमानों का उपयोग किया जा रहा है। अमेरिका ने बीजिंग से तेहरान में आतंकवादियों पर लगाम कसने के लिए शासन को मनाने का भी आह्वान किया।

फ़ाइनेंशियल टाइम्स अख़बार ने जनवरी में रिपोर्ट किया था कि चीन ने “सभी संबंधित पक्षों” से “लाल सागर में नैविगेशन की सुरक्षा सुनिश्चित करने” का आह्वान किया है। लेकिन बीजिंग ने किसी भी पक्ष के प्रति प्रतिबद्धता नहीं जताई।

विश्लेषकों का कहना है कि चीन इस बात से चिंतित है कि यूरोपीय व्यापारी बड़े पैमाने पर परिवहन जोखिमों को कम करने के लिए अपने देश के क़रीबी देशों में संबंध स्थापित करेंगे। “कुछ (कंपनियाँ) भारत में अधिक उत्पादन ले जाने पर भी विचार कर सकती हैं, जो यूरोप के लिए एक सप्ताह क़रीब है,” यूरोप में चीनी यांत्रिक घटकों का निर्यात करने वाले IC ट्रेड के संस्थापक मार्को कैस्टेली (Marco Castelli) ने रॉयटर्स को बताया। “कंपनियों को हर चीज़ का पुनर्मूल्यांकन करने की ज़रूरत है।”

मार्च 2021 में एक विशाल कंटेनर जहाज़, एवर गिवेन के मिस्र में लाल सागर पर स्थित स्वेज़ नहर में फँसने और छह दिनों के लिए अवरुद्ध होने के बाद समुद्री यातायात के अस्थायी ठहराव और महँगे चक्कर की याद आती है। फ़ोर्ब्स पत्रिका ने जनवरी 2024 में रिपोर्ट की थी कि कुछ शिपिंग कंपनियों ने ऐसी रुकावटों का सामना करने के लिए नई आपूर्ति शृंखलाएँ तैयार की हैं। चीन और यूरोपीय देशों ने आंशिक रूप से रेल द्वारा माल ले जाकर रुकावट की भरपाई की।

मिस्र, ईरान और यमन, चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव शी जिनपिंग (Xi Jinping) की वन बेल्ट, वन रोड (OBOR) आधारभूत संरचना योजना में भाग लेते हैं। लेकिन चीन ने हाउती हमलों को रोकने के लिए हस्तक्षेप नहीं किया है, जो निवेश और व्यापार मार्गों के ज़रिए सदस्य देशों को जोड़ने के OBOR के कथित लक्ष्य को अस्पष्ट बना देता है, रॉयटर्स ने बताया।

मध्य पूर्व के चीनी विशेषज्ञ यिन गैंग (Yin Gang) ने कहा कि व्यापार मार्गों के बाधित होने से भारी नुक़सान हुआ है। “लाल सागर शिपिंग मार्ग चीनी व्यापारी जहाज़ों के लिए काफ़ी महत्वपूर्ण है,” यिन ने फ़ाइनेंशियल टाइम्स को बताया। “हालाँकि चीन जैसे देशों से शिपमेंट सुरक्षित हो सकता है, लेकिन माल ढुलाई लागत में वृद्धि हुई है। … यह चीन के लिए बेहद तकलीफ़देह है।”

संबंधित आलेख

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button