ग्लोबल कॉमन्सपूर्वोत्तर एशिया / NEAहथियारों का प्रसार

उत्तर कोरिया के जासूसी उपग्रह प्रक्षेपण के जवाब में जापान ने बढ़ाई निगरानी क्षमताएँ

मार्क जैकब प्रॉसेर (Marc Jacob Prosser)

उत्तर कोरिया द्वारा हाल ही में एक जासूसी उपग्रह की तैनाती ने भू-राजनीतिक तनाव पैदा कर दिया है और इसने जापान व उसके सहयोगियों के लिए सुरक्षा चिंताएँ बढ़ा दी हैं, जब कि जापानी प्रधान मंत्री फ़ुमियो किशिदा (Fumio Kishida) ने प्रक्षेपण को “संयुक्त राष्ट्र के प्रासंगिक प्रस्तावों का स्पष्ट उल्लंघन” बताया।

प्योंगयांग के प्रक्षेपण के मद्दे नज़र, जापान ने जनवरी 2024 के मध्य में एक निगरानी उपग्रह कक्ष में भेजा। टोक्यो भी क्षेत्रीय साझेदारों के साथ रक्षा अभ्यास और उत्तर कोरिया के ख़तरों का मुकाबला करने के लिए सहयोगात्मक प्रयासों में संलग्न है।

जनवरी 2024 में तनेगाशिमा अंतरिक्ष केंद्र से जापानी सर्वेलन्स सैटलाइट ले जाने वाला रॉकेट लॉन्च हुआ।
वीडियो आभार: क्योडो न्यूज़/रॉयटर्स

नवंबर 2023 में उत्तर कोरिया का जासूसी उपग्रह प्रक्षेपण दो असफल प्रयासों के बाद संपन्न हुआ और जो उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन (Kim Jong Un) की तीखी बयानबाज़ी के साथ मेल खाता है। किम ने अपने अलग-थलग देश से उपग्रहों, परमाणु हथियारों और स्वायत्त युद्ध उपकरणों सहित अपनी सैन्य क्षमताओं का विस्तार करने का आह्वान किया है।

“हालाँकि उत्तर कोरियाई जासूसी उपग्रहों की क्षमताएँ सामान्य होने की संभावना है, तथापि वे ICBM [अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक] मिसाइल क्षमताओं को मज़बूत करने और आगे बढ़ाने की व्यापक रणनीति का हिस्सा हैं,” टोक्यो के इंटरनेशनल क्रिश्चियन यूनिवर्सिटी में राजनीति और अंतरराष्ट्रीय अध्ययन के प्रोफ़ेसर स्टीफ़न नेगी (Stephen Nagy) ने फ़ोरम को बताया। “जासूसी उपग्रह प्रक्षेपण वाहन, नैविगेशन क्षमताएँ और प्रौद्योगिकी, सभी ICBM प्रौद्योगिकियों के महत्वपूर्ण पहलू हैं।”

इंटरनेशनल हाउस ऑफ जापान के टोक्यो स्थित थिंक टैंक एशिया पैसिफ़िक इनिशिएटिव एंड इंस्टीट्यूट ऑफ़ जियोइकोनॉमिक्स के वरिष्ठ शोधार्थी हिरोहितो ओगी (Hirohito Ogi) के अनुसार, प्योंगयांग के जासूसी उपग्रह प्रयास, युद्ध की स्थितियों में अपनी मिसाइल क्षमताओं को संचालित करने की उसकी इच्छा को दर्शाते हैं।

“हालाँकि हम नहीं जानते कि उत्तर कोरिया वास्तव में किस हद तक उपग्रह संचालित कर सकता है, लेकिन हमें उसके परमाणु युद्ध के ख़तरों के संदर्भ में संबंधित क्षमता पर सतर्क रहने की ज़रूरत है,” उन्होंने फ़ोरम को बताया।

दक्षिण कोरियाई खुफ़िया अधिकारियों ने कहा है कि रूस संभवतः उत्तर कोरिया के जासूसी उपग्रह कार्यक्रम में मदद कर रहा है, जो क्षेत्र की भू-राजनीतिक गतिशीलता को अस्थिर कर रहा है। जापान, दक्षिण कोरिया और संयुक्त राज्य अमेरिका सहित इंडो-पैसिफ़िक के साझेदारों का कहना है कि प्योंगयांग यूक्रेन के खिलाफ़ रूस के अकारण युद्ध के लिए पारंपरिक हथियारों की आपूर्ति के बदले में मास्को से सैन्य प्रौद्योगिकियों की माँग कर रहा है।

जापान की प्रतिक्रिया में, प्रतिक्रिया और निगरानी क्षमताओं का विस्तार शामिल है, जिसमें तनेगाशिमा स्पेस सेंटर से सूचना एकत्र करने वाले उपग्रह ऑप्टिकल 8 का हालिया लॉन्च भी शामिल है। उस महीने, जापान, दक्षिण कोरिया और अमेरिका ने एक नौसैनिक अभ्यास किया, जिसमें अमेरिकी विमानवाहक पोत USS कार्ल विन्सन भी शामिल था, जो उत्तर कोरियाई मिसाइल के ख़तरों का जवाब देने पर केंद्रित था। राष्ट्रों ने प्योंगयांग की मिसाइल गतिविधियों पर नज़र रखने के लिए रियल-टाइम सूचना-साझाकरण प्रणाली भी तैनात की है।

दरअसल, उत्तर कोरिया के जासूसी उपग्रह प्रक्षेपण का उल्टा असर हो सकता है, सेवानिवृत्त जापान ग्राउंड सेल्फ़-डिफ़ेंस फ़ोर्स के मेजर जनरल नोज़ोमु योशिटोमी (Nozomu Yoshitomi) ने फ़ोरम को बताया। उपग्रह की क्षमताएँ व्यावसायिक निगरानी उपग्रहों से कमतर या समान होने की संभावना है। चूँकि उत्तर कोरिया पहले से ही रूस जैसे देशों से सर्वेलन्स सैटलाइट छवियाँ ख़रीद सकता है, इसलिए उसके उपग्रह से सीमित लाभ होगा।

“इस तरह, उत्तर कोरिया की सैन्य कार्रवाइयाँ जापान, संयुक्त राज्य अमेरिका और दक्षिण कोरिया के बीच त्रिपक्षीय सैन्य सहयोग को मज़बूत करने के लिए उपयोगी हैं, जिसमें सूचना साझाकरण, मिसाइल रक्षा और इसी तरह की अतिरिक्त सहकारी कार्रवाइयाँ शामिल हैं,” निहोन यूनिवर्सिटी के कॉलेज ऑफ़ रिस्क मैनेजमेंट के प्रोफ़ेसर योशिटोमी (Yoshitomi) ने कहा।

सहयोग की और मज़बूती दिसंबर 2023 में रेखांकित हुई जब जापान, दक्षिण कोरिया और अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों ने सियोल में मुलाक़ात की और उत्तर कोरिया के बैलिस्टिक मिसाइल तथा अंतरिक्ष कार्यक्रमों के साथ-साथ उसके साइबर अपराध व क्रिप्टोकरेंसी मनी लॉन्ड्रिंग का मुक़ाबला करने के लिए पहल की घोषणा की।

मार्क जैकब प्रॉसेर (Marc Jacob Prosser) तोक्यो से रिपोर्टिंग करने वाले फ़ोरम संवाददाता हैं।

संबंधित आलेख

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button