ग्लोबल कॉमन्सदक्षिणपूर्व एशिया / एसईएसंघर्ष / तनाव

इंडोनेशियाई वायु सेना के आधुनिकीकरण से होती संप्रभुता, क्षेत्रीय स्थिरता मज़बूत

गस्टी दा कोस्टा (Gusty Da Costa)

इंडोनेशियाई वायु सेना द्वारा फ़्रांस और संयुक्त राज्य अमेरिका से लड़ाकू विमानों का अधिग्रहण उसके प्रमुख आधुनिकीकरण प्रगति और भागीदार देशों के साथ मजबूत इंटरऑपरेबिलिटी को रेखांकित करता है। विशेषज्ञों का कहना है कि पीपल्स रिपब्लिक ऑफ़ चाइना (PRC) द्वारा सैन्य निर्माण के बीच यह प्रगति अपने क्षेत्र की रक्षा के लिए इंडोनेशिया के प्रयासों को मज़बूत करती है, जो दक्षिणी चीन सागर में क्षेत्रीय स्थिरता को ख़तरे में डालने वाली ग़ैरक़ानूनी गतिविधियों का संचालन कर रहा है।

“इंडोनेशिया विशाल हवाई और समुद्री क्षेत्रों वाला विस्तृत द्वीपसमूह है। अपनी क्षेत्रीय संप्रभुता को बनाए रखने के लिए, इंडोनेशिया को एक मज़बूत और आधुनिक वायु सेना की ज़रूरत है,” इंडोनेशियाई इंस्टीट्यूट ऑफ़ डिफ़ेंस एंड स्ट्रैटेजिक स्टडीज़ के विश्लेषक बेनी सुकादिस (Beni Sukadis) ने फ़ोरम को बताया।

2021 में, उड़ान भरता और फ़्लोरिडा के एग्लिन वायु सेना बेस पर पहुँचता अमेरिकी वायु सेना का F-15EX. इंडोनेशिया ने अगस्त 2023 में कहा कि वह अमेरिकी निर्माता बोइंग से 24 लड़ाकू विमान ख़रीदेगा।
वीडियो आभार: अमेरिकी रक्षा विभाग/गेटी इमेजस

उन्होंने कहा कि 2012 और 2017 के बीच अमेरिका से 24 F-16 C/D ब्लॉक 52 लड़ाकू विमानों का अधिग्रहण, आधुनिकीकरण की शुरुआत के लिए महत्वपूर्ण था। “F-16 एक उन्नत लड़ाकू विमान है जिसमें लंबी दूरी की युद्ध क्षमता, उच्च गतिशीलता और शक्तिशाली इलेक्ट्रॉनिक क्षमताओं सहित कई फ़ायदे हैं।”

सुकादिस ने कहा कि फरवरी 2022 में, इंडोनेशिया की वायु सेना ने 42 फ़्रांस में निर्मित राफ़ेल विमानों के लिए 810 करोड़ ($8.1 बिलियन) अमेरिकी डॉलर के सौदे पर हस्ताक्षर किए। “राफ़ेल अनुबंध पर हस्ताक्षर करने से राफ़ेल विमान के पायलटों और तकनीशियनों को प्रशिक्षण भी मिलता है ताकि वे विमान का इष्टतम निष्पादन बनाए रख सकें,” उन्होंने कहा। “इसका मतलब है कि इस ख़रीदारी में पायलट क्रू प्रशिक्षण और विमान रखरखाव में मानव संसाधन विकास पैकेज शामिल है।”

अगस्त 2023 में इंडोनेशियाई वायु सेना ने अमेरिका से 24 दो-इंजन वाले बोइंग F-15EX विमानों के आगामी अधिग्रहण की घोषणा की।

सुकादिस ने कहा, ख़रीदारी में इंटरऑपरेबिलिटी को शामिल किया गया। F-15 और F-16 लड़ाकू विमानों के वेरिएंट का उपयोग जापान, सिंगापुर, दक्षिण कोरिया, ताइवान, थाईलैंड और अमेरिका सहित साझेदार सैन्य-बलों द्वारा किया जाता है। इस बीच, डसॉल्ट राफ़ेल का उपयोग भारत द्वारा भी किया जा रहा है, जबकि बांग्लादेश और मलेशिया विमान प्राप्त करने पर विचार कर रहे हैं।

सुकादिस ने कहा, 60 लाख (6 मिलियन) वर्ग किलोमीटर से अधिक दुनिया के छठे सबसे बड़े विशेष आर्थिक क्षेत्र (EEZ) के साथ, इंडोनेशिया अपनी समुद्री संप्रभुता के उल्लंघन की निगरानी को प्राथमिकता देता है। वह फ़्रांसीसी कंपनी थेल्स से 13 ग्राउंड-नियंत्रित इंटरसेप्शन रडार सिस्टम और तुर्की एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज़ से एक दर्जन निगरानी और टोही ड्रोन के सौदों के साथ वायु सेना की निगरानी क्षमताओं का विस्तार भी कर रहा है।

इंडोनेशिया के योग्यकार्ता में UPN “वेटरन” यूनिवर्सिटी के अंतरराष्ट्रीय संबंध विशेषज्ञ निकोलस लॉय (Nikolaus Loy) के अनुसार, नए विमान वाहक सहित बीजिंग का सैन्य-निर्माण, इंडोनेशिया के रक्षा आधुनिकीकरण को संचालित करने में मदद कर रहा है। जकार्ता को अपनी क्षेत्रीय अखंडता और अपने EEZ के भीतर मत्स्य-पालन और जीवाश्म ईंधन सहित प्राकृतिक संसाधनों के लिए ख़तरों का सामना करना पड़ रहा है।

“हम जानते हैं कि वह दक्षिणी चीन सागर के क़रीब है, और इसकी काफ़ी संभावना है कि इंडोनेशियाई विशेष आर्थिक क्षेत्र में [बीजिंग] के दावों का विस्तार होगा और ऐसा होना शुरू हो चुका है,” लॉय ने फ़ोरम को बताया।

जकार्ता स्थित जोखिम परामर्शदाता सेमर सेंटिनल के सैन्य विश्लेषक अलमन हेलवास अली (Alman Helvas Ali) ने फ़ोरम को बताया कि चीन इसी तरह अन्य इंडो-पैसिफ़िक देशों की संप्रभुता को ख़तरे में डाल रहा है, इंडोनेशियाई वायु सेना का आधुनिकीकरण भी क्षेत्रीय सुरक्षा में जकार्ता की भूमिका को बढ़ाता है।

“हालाँकि इंडोनेशिया द्विपक्षीय या बहुपक्षीय सैन्य समझौते में शामिल नहीं है, लेकिन क्षेत्रीय स्थिरता बनाए रखने में इंडोनेशिया के योगदान को अवश्य ध्यान में रखा जाना चाहिए,” उन्होंने कहा।

गस्टी दा कोस्टा (Gusty Da Costa) जकार्ता, इंडोनेशिया में बसे फ़ोरम योगदानकर्ता है।

संबंधित आलेख

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button